CTET Syllabus 2024 in Hindi: जारी – पेपर 1 और 2 सिलेबस डाउनलोड करें

नमस्ते दोस्तों, आज हम आपको CTET Syllabus 2024 के बारे में आपको बतयेंगे। यदि आप CTET परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं, या फिर होने जा रहे हैं। तो CTET Syllabus in Hindi में आपको CTET परीक्षा और CTET Syllabus का Latest Courses पता होना चाहिए।

इसे आसान बनाने के लिए हमने आपको पेपर 1 और पेपर 2 के लिए विस्तार रूप CTET Syllabus को हिंदी में पूरी तरह जानकारी दी हैं, और CTET सम्बन्धी सारी जानकारी आप इस पोस्ट में पा सकते हैं।

सीटेट 2024 सिलेबस (CTET 2024 Syllabus in Hindi)

CTET 2024 परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए स्टूडेंट को CTET syllabus 2024 से परिचित होना चाहिए। CTET परीक्षा की तारीखों के अनुसार, CBSE CTET 2024 परीक्षा (CBSE CTET 2024 Exam) 21 जनवरी 2024 को आयोजित की जाएगी। केंद्रीय विद्यालयों और नवोदय विद्यालयों जैसे सीबीएसई से संबंधित सरकारी स्कूलों में कक्षा I से VIII तक के शिक्षकों की भर्ती के लिए सीटेट परीक्षा आयोजित की जाती है।

सीटेट में भाग लेने के इच्छुक उम्मीदवारों को यह सुनिश्चित करना होगा कि वे परीक्षा से पहले CTET 2024 के पूरे सिलेबस (CTET Syllabus in Hindi) को कवर कर लें। CTET syllabus 2024  को समय पर पूरा करने से छात्रों को रिवीजन के लिए ज्यादा से ज्यादा समय प्राप्त होगा। उम्मीदवार CTET 2024 के विस्तृत Syllabus (CTET 2024 Syllabus in Hindi) के लिए नीचे आर्टिकल में दी गई हैं।

CTET Syllabus 2024 in Hindi

ऐसे स्टूडेंट्स जो क्लास I से V के लिए सरकारी स्कूलों में शिक्षकों के पद के लिए आवेदन करना चाहते हैं, उन्हें पेपर 1 के लिए उपस्थित होना होगा। ऐसे में यह आवश्यक है कि स्टूडेंट्स को सीटेट पेपर 1 Syllabus की संपूर्ण जानकारी हो। नीचे दी गई है। उम्मीदवार इसकी सहायता से सीटेट पेपर 1 सिलेबस की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

CTET Paper 1 Syllabus 2024: प्रायमरी कक्षा 1 – 5 के लिए

सीटेट पेपर 1 सिलेबस 2024 (CTET Paper 1 Syllabus 2024) : प्रायमरी कक्षा 1 – 5 के लिए

खंडउपखंडमहत्वपूर्ण टॉपिक
बाल विकास और शिक्षाशास्त्र(प्रश्नों की संख्या: 30)बाल विकास: प्राथमिक विद्यालय के बच्चे (15 प्रश्न)-विकास की अवधारणा और इसका सीखने से संबंध
-पियाजे, कोहलबर्ग और व्यगोत्स्की: सिद्धांत और मुख्य बातें
-बहु-आयामी बुद्धि
-शिक्षार्थियों के बीच व्यक्तिगत अंतर, भाषा, जाति, लिंग, समुदाय, धर्म आदि की विविधता के आधार पर मतभेदों को समझना।
-भाषा और विचार
-बाल विकास के सिद्धांत
-सीखने के लिए आकलन और सीखी गई बातों के आकलन के बीच अंतर; स्कूल-आधारित मूल्यांकन, सतत और समग्र मूल्यांकन: परिप्रेक्ष्य और अभ्यास
-बाल केंद्रित और प्रगतिशील शिक्षा की अवधारणाएं
-बुद्धिमत्ता के निर्माण का महत्वपूर्ण परिप्रेक्ष्य
-शिक्षार्थियों की तैयारी के स्तर का आकलन करने, कक्षा में सीखने और -समालोचनात्मक सोच को बढ़ाने के लिए और शिक्षार्थी की उपलब्धि का -आकलन करने के लिए उपयुक्त प्रश्न तैयार करना
-आनुवंशिकता और पर्यावरण का प्रभाव
-सामाजीकरण प्रक्रियाएं: सामाजिक दुनिया और बच्चे (शिक्षक, माता-पिता, सहपाठी)
-सामाजिक निर्माण के रूप में लिंग; लिंग की भूमिकाएं, लैंगिक-पूर्वाग्रह और शिक्षा
समावेशी शिक्षा की अवधारणा और विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को समझना(5 प्रश्न)-विविध पृष्ठभूमि, वंचित सहित, के शिक्षार्थियों की जरूरतों को संबोधित करना
-सीखने की कठिनाइयों से पीड़ित बच्चों, शारीरिक दोष आदि वालों की जरूरतों को पूरा करना
-प्रतिभाशाली, रचनात्मक, विशेष रूप से विकलांग शिक्षार्थियों की आवश्यकताओं को पूरा करना
सीखना और शिक्षाशास्त्र(10 प्रश्न)-अनुभूति और भावनाएं
-बच्चों में सीखने की वैकल्पिक अवधारणाएँ, बच्चों की ‘त्रुटियों’ को सीखने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण कदमों के रूप में समझना
-बच्चे कैसे सोचते और सीखते हैं; बच्चे क्यों और कैसे स्कूल के प्रदर्शन में सफलता हासिल करने में ‘असफल’ होते हैं
-सीखने में योगदान देने वाले कारक – व्यक्तिगत और पर्यावरणीय
-प्रेरणा और सीखना
-शिक्षण और सीखने की बुनियादी प्रक्रियाएं; बच्चों की सीखने की रणनीतियाँ; सामाजिक गतिविधि के रूप में सीखना; सीखने का सामाजिक संदर्भ; एक समस्या समाधानकर्ता और ‘वैज्ञानिक अन्वेषक’ के रूप में बच्चे
भाषा Iप्रश्नों की संख्या: 30भाषा की समझ(15 प्रश्न)अपठित गद्यांशों को पढ़ना – दो गद्यांश, एक गद्य या नाटक और एक कविता, जिसमें समझ, निष्कर्ष, व्याकरण और भाषा दक्षता से जुड़े प्रश्न होंगे (गद्यांश साहित्यिक, वैज्ञानिक, कथापरक या विवेचनात्मक हो सकता है)
भाषा विकास का शिक्षाशास्त्र(15 प्रश्न)-सीखना और अधिग्रहण करना
-भाषा की समझ और प्रवीणता का मूल्यांकन करना: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना
-भाषा शिक्षण के सिद्धांत
-विचारों को मौखिक और लिखित रूप में संप्रेषित करने के लिए भाषा सीखने में व्याकरण की भूमिका पर समालोचनात्मक दृष्टिकोण
-विविध कक्षा में भाषा सिखाने की चुनौतियाँ; भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियाँ और समस्याएँ
-भाषा कौशल
-सुनने और बोलने की भूमिका; भाषा का कार्य और एक उपकरण के रूप में बच्चे इसका कैसे उपयोग करते हैं
-शिक्षण- अधिगम सामग्री: पाठ्यपुस्तक, मल्टीमीडिया सामग्री, कक्षा के बहुभाषी संसाधन
-उपचारात्मक शिक्षण
भाषा II(प्रश्नों की संख्या: 30)समझ(15 प्रश्न)-समझ, व्याकरण और मौखिक क्षमता वाले प्रश्न के साथ दो अपठित गद्यांश (विवेचनात्मक या साहित्यिक या कथापरक या वैज्ञानिक)
भाषा विकास का शिक्षाशास्त्र(15 प्रश्न)-सीखना और अधिग्रहण
-मौखिक और लिखित रूप में विचारों को संप्रेषित करने के लिए भाषा सीखने में व्याकरण की भूमिका पर महत्वपूर्ण परिप्रेक्ष्य
-भाषा कौशलभाषा शिक्षण के सिद्धांत
-भाषा की समझ और प्रवीणता का मूल्यांकन करना: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना
-विविध कक्षा में भाषा सिखाने की चुनौतियाँ; भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियाँ और समस्याएँ
-शिक्षण-अधिगम सामग्री: पाठ्यपुस्तक, मल्टीमीडिया सामग्री, कक्षा के बहुभाषी संसाधन
-उपचारात्मक शिक्षण
-सुनने और बोलने की भूमिका; भाषा का कार्य और बच्चे इसे एक उपकरण के रूप में कैसे उपयोग करते हैं
गणितप्रश्नों की संख्या: 30सामग्री(15 प्रश्न)-ज्यामिति
-हमारे आसपास ठोस
-आयतन
-डेटा संधारण
-वज़न
-गुणा
-आकार और स्थानिक समझ
-विभाजन
-समय
-पैटर्न
-मुद्रा
-संख्याएँ
-जोड़ना और घटाना
-माप
शिक्षाशास्त्रीय समास्याएँ (15 प्रश्न)-गणित/तार्किक सोच की प्रकृति; बच्चों की सोच और तर्क पैटर्न और अर्थ और सीखने की रणनीतियों को समझना
-पाठ्यचर्या में गणित का स्थान
-शिक्षण की समस्याएं
-औपचारिक और अनौपचारिक तरीकों से मूल्यांकन
-त्रुटि विश्लेषण और सीखने और सिखाने के संबंधित पहलू
-नैदानिक और उपचारात्मक शिक्षण
-गणित की भाषा
-सामुदायिक गणित
पर्यावरण अध्ययनप्रश्नों की संख्या: 30सामग्री(15 प्रश्न)-परिवार और दोस्त: रिश्ते, काम और खेल, जानवर, पौधे
-भोजन
-आश्रय
-पानी
-यात्रा
-चीजें जो हम बनाते और करते हैं
शैक्षणिक मुद्दे (15 प्रश्न)-ईवीएस की अवधारणा और दायराई
-वीएस का महत्व, एकीकृत ईवीएस
-सीखने के सिद्धांत
-सीसीई
-गतिविधियां
-प्रयोग/व्यावहारिक कार्यअवधारणाओं को प्रस्तुत करने के दृष्टिकोण
-विचार – विमर्श
-शिक्षण सामग्री/सहायक सामग्री
-समस्याविज्ञान और सामाजिक विज्ञान का दायरा और संबंध
-पर्यावरण अध्ययन और पर्यावरण शिक्षा

CTET 2024 पेपर 1 – पूछे जाने वाले प्रश्नों की प्रकृति और स्तर

  • बाल विकास और शिक्षाशास्त्र टेस्ट के प्रश्न 6-11 वर्ष की आयु वर्ग के लिए प्रासंगिक शिक्षण और सीखने के शैक्षिक मनोविज्ञान पर केंद्रित होंगे। वे विविध शिक्षार्थियों की विशेषताओं, जरूरतों और मनोविज्ञान को समझने, शिक्षार्थियों के साथ बातचीत करने और सीखने के लिए अच्छे मार्गदर्शक की विशेषताओं और गुणों पर केंद्रित होंगे।
  • भाषा I के प्रश्न निर्देश देने की भाषा पर दक्षता जाँचने पर केंद्रित होंगे।
  • भाषा II के प्रश्न भाषा, संचार और समझने की क्षमताओं से संबंधित तत्वों पर केंद्रित होंगे।
  • भाषा II, भाषा I के अलावा कोई अन्य भाषा होनी चाहिए। उम्मीदवार उपलब्ध भाषा विकल्पों में से किसी एक भाषा को भाषा I और दूसरी भाषा II के रूप में चुन सकते हैं।
  • गणित और पर्यावरण अध्ययन में प्रश्न अवधारणाओं, समस्या समाधान क्षमताओं और शैक्षणिक समझ और विषयों के अनुप्रयोगों पर केंद्रित होंगे। प्रश्न एनसीईआरटी द्वारा कक्षा I-V तक के लिए निर्धारित विषय के सिलेबस के विभिन्न खंडों से समान अनुपात में पूछे जाएंगे।
  • पेपर I की परीक्षा में प्रश्न कक्षा I-V के लिए NCRT द्वारा तय सिलेबस पर आधारित होंगे, लेकिन उनका कठिनाई स्तर और संबद्धता माध्यमिक स्तर की हो सकती है।

CTET syllabus 2024 पेपर 2 

प्राथमिक स्तर (कक्षा VI से VIII) के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के लिए CTET 2024 Syllabus का पेपर 2 आयोजित किया जाएगा। ऐसे में आवश्यक है, कि उम्मीदवार CTET पेपर 2 syllabus की भी संपूर्ण जानकारी रखें। नीचे दी गई टेबल में पेपर 2 का विस्तृत CTET Syllabus देखें।

CTET Paper 2 Syllabus 2024: प्रायमरी कक्षा 6 – 8 के लिए

खंडउपखंडटॉपिक
बाल विकास और शिक्षाशास्त्र(प्रश्नों की संख्या: 30)बाल विकास: माध्यमिक (एलिमेंटरी) विद्यालय के बच्चे(15 प्रश्न)विकास की अवधारणा और सीखने के साथ इसका संबंध
-बाल केंद्रित और प्रगतिशील शिक्षा की अवधारणाएं
-बुद्धि के निर्माण का महत्वपूर्ण पहलू
-सीखने के लिए आकलन और सीखी गई बातों के आकलन के बीच अंतर; स्कूल-आधारित मूल्यांकन, सतत और समग्र मूल्यांकन: परिप्रेक्ष्य और अभ्यास
-शिक्षार्थियों की तैयारी के स्तर का आकलन करने; कक्षा में सीखने और आलोचनात्मक सोच को बढ़ाने के लिए और शिक्षार्थी की उपलब्धि का आकलन करने के लिए उपयुक्त प्रश्न तैयार करना
-बहु-आयामी बुद्धि
-शिक्षार्थियों के बीच व्यक्तिगत अंतर, भाषा, जाति, लिंग, समुदाय, धर्म आदि की विविधता के आधार पर मतभेदों को समझना।
-समस्या समाधानकर्ता और एक ‘वैज्ञानिक अन्वेषक’ के रूप में बच्चे
-भाषा और विचार
-अनुभूति और भावनाएं
-प्रेरणा और सीखना
-सीखने में योगदान देने वाले कारक – व्यक्तिगत और पर्यावरणीय
-सामाजिक निर्माण के रूप में लिंग; लिंग की भूमिकाएं, लैंगिक-पूर्वाग्रह और शिक्षा
-बच्चों के विकास के सिद्धांत
-आनुवंशिकता और पर्यावरण का प्रभाव
-समाजीकरण प्रक्रियाएं: सामाजिक दुनिया और बच्चे (शिक्षक, माता-पिता, साथी)
-पियाजे, कोहलबर्ग और व्योगत्स्की: सिद्धांत और मुख्य बातें
-बच्चों में सीखने की वैकल्पिक अवधारणाएँ, बच्चों की ‘त्रुटियों’ को सीखने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण कदमों के रूप में समझना
समावेशी शिक्षा की अवधारणा और विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को समझना (5 प्रश्न)-कमजोर और वंचित सहित विविध पृष्ठभूमि के शिक्षार्थियों की जरूरतों को पूरा करना
-प्रतिभाशाली, रचनात्मक, विशेष रूप से विकलांग शिक्षार्थियों की जरूरतों को पूरा करना
-सीखने की कठिनाइयों, समस्याओं आदि वाले बच्चों की जरूरतों को पूरा करना।
सीखना और शिक्षाशास्त्र(10 प्रश्न)-बच्चे कैसे सोचते और सीखते हैं; बच्चे कैसे और क्यों स्कूल के प्रदर्शन में सफलता पाने में ‘असफल’ होते हैं

-शिक्षण और सीखने की बुनियादी प्रक्रियाएं; बच्चों की सीखने की रणनीतियाँ; सामाजिक गतिविधि के रूप में सीखना; सीखने का सामाजिक संदर्भ
भाषा Iप्रश्नों की संख्या: 30भाषा की समझ(15 प्रश्न)-अपठित गद्यांशों को पढ़ना – दो गद्यांश, एक गद्य या नाटक और एक कविता, जिसमें समझ, निष्कर्ष, व्याकरण और भाषा दक्षता से जुड़े प्रश्न होंगे (गद्यांश साहित्यिक, वैज्ञानिक, कथापरक या विवेचनात्मक हो सकता है)
भाषा विकास का शिक्षाशास्त्र(15 प्रश्न)-भाषा शिक्षण के सिद्धांत
-सुनने और बोलने की भूमिका; भाषा का कार्य और बच्चे उपकरण के रूप में इसका कैसे उपयोग करते हैं।
-भाषा की समझ और प्रवीणता का मूल्यांकन करना: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना
-विविधतापूर्ण कक्षा में भाषा सिखाने की चुनौतियाँ; भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियाँ और समस्याएँ
-सीखना और अधिग्रहण
-भाषा कौशल
-शिक्षण- अधिगम सामग्री: पाठ्यपुस्तक, मल्टीमीडिया सामग्री, कक्षा के बहुभाषी संसाधन
-उपचारात्मक शिक्षण
-मौखिक और लिखित रूप में विचारों को संप्रेषित करने के लिए भाषा को सीखने में व्याकरण की भूमिका पर महत्वपूर्ण दृष्टिकोण
भाषा IIप्रश्नों की संख्या: 30भाषा की समझ(15 प्रश्न)-अपठित गद्यांशों को पढ़ना – दो गद्यांश, एक गद्य या नाटक और एक कविता, जिसमें समझ, निष्कर्ष, व्याकरण और भाषा दक्षता से जुड़े प्रश्न होंगे (गद्यांश साहित्यिक, वैज्ञानिक, कथापरक या विवेचनात्मक हो सकता है)
भाषा विकास का शिक्षाशास्त्र (15 प्रश्न)-सीखना और अधिग्रहण
-भाषा शिक्षण के सिद्धांत
-सुनने और बोलने की भूमिका; भाषा का कार्य और बच्चे इसे एक उपकरण के रूप में कैसे उपयोग करते हैं
-भाषा की समझ और प्रवीणता का मूल्यांकन करना: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना
-विविध कक्षा में भाषा सिखाने की चुनौतियाँ; भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियाँ और विकार
-भाषा कौशल
-शिक्षण- अधिगम सामग्री: पाठ्यपुस्तक, मल्टीमीडिया सामग्री, कक्षा के बहुभाषी संसाधन
उपचारात्मक शिक्षण
-मौखिक और लिखित रूप में विचारों को संप्रेषित करने के लिए भाषा सीखने में व्याकरण की भूमिका पर महत्वपूर्ण परिप्रेक्ष्य
गणित और विज्ञान के शिक्षक के लिएप्रश्नों की संख्या: 60गणित(30 प्रश्न)सामग्री (20 प्रश्न)

-संख्या प्रणाली
-संख्याओं को जानना
-ऋणात्मक संख्याएं और पूर्णांक
-भिन्न
-संख्यात्मक प्रश्न
-पूर्ण संख्याएं
-बीजगणित
-बीजगणित परिचय
-अनुपात और समानुपात
-ज्यामिति
-बुनियादी ज्यामितीय विचार (2-डी)
-प्राथमिक आकृतियों को समझना (2-डी और 3 डी)
-क्षेत्रमितिरचना (पटरी, प्रोट्रैक्टर, कंपास का उपयोग करके)
-डाटा
-समरूपता: (प्रतिबिंब)

शैक्षणिक समस्याएँ (10 प्रश्न)

-गणित/तार्किक सोच की प्रकृति
-सामुदायिक गणित
-मूल्यांकन
-उपचारात्मक शिक्षण
-पाठ्यचर्या में गणित का स्थान
-गणित की भाषा
-शिक्षण की समस्या
विज्ञान(30 प्रश्न)सामग्री (20 प्रश्न)

-भोजन- भोजन के स्रोत, भोजन के घटक, भोजन की सफाई
-चीजें कैसे काम करती हैं- विद्युत प्रवाह और सर्किट, चुंबक
-प्राकृतिक घटनाएं
-जीव जगत
-गतिमान चीजें: लोग और विचार
-प्राकृतिक संसाधन
-सामग्री- दैनिक उपयोग की सामग्री

शैक्षणिक समस्याएँ (10 प्रश्न)

-विज्ञान की प्रकृति और संरचना
-प्राकृतिक विज्ञान/लक्ष्य और उद्देश्य
-पाठ्य सामग्री/सहायता सामग्री
-मूल्यांकन – संज्ञानात्मक/साइकोमोटर/प्रभावी
-समस्याएँ
-उपचारात्मक शिक्षण
-विज्ञान को समझना और उसकी सराहना करना
-दृष्टिकोण/एकीकृत दृष्टिकोण
-अवलोकन/प्रयोग/खोज (विज्ञान की विधि)
-नवाचार
सामाजिक अध्ययन/ सामाजिक विज्ञान (सामाजिक अध्ययन/सामाजिक अध्ययन के शिक्षक के लिए)प्रश्नों की संख्या: 60सामग्री (40 प्रश्न)
इतिहास

-कब, कहाँ और कैसे
-शुरुआती समाज
-शुरुआती किसान और चरवाहे
-पहले शहर
-शुरुआती राज्यनए विचार
-पहला साम्राज्य
-दूर देशों के साथ संपर्क
-राजनीतिक विकास
-संस्कृति और विज्ञान
-नए राजा और राज्य
-दिल्ली के सुल्तान
-वास्तुकला
-साम्राज्य का निर्माण
-सामाजिक बदलाव
-क्षेत्रीय संस्कृतियां
-कंपनी शक्ति की स्थापना
-ग्रामीण जीवन और समाज
-उपनिवेशवाद और जनजातीय समाज
-1857-58 का विद्रोह
महिला और सुधार
-जाति व्यवस्था को चुनौती
-राष्ट्रवादी आंदोलन
-आजादी के बाद का भारत

भूगोल

-एक सामाजिक अध्ययन और विज्ञान के रूप में भूगोल
-ग्रह: सौरमंडल में पृथ्वी
-ग्लोब
-समग्र पर्यावरण: प्राकृतिक और मानव पर्यावरण
-वायु
-पानी
-मानव पर्यावरण: बसावट, परिवहन और संचार
-संसाधन: प्रकार- प्राकृतिक और मानव
-कृषि

सामाजिक और राजनीतिक जीवन

-विविधता
-सरकार
-स्थानीय सरकार
-जीविकोपार्जन
-लोकतंत्र
-राज्य सरकार का भूगोल
-मीडिया को समझना
-लैंगिक विषय
-संविधान
-संसदीय सरकार
-न्यायपालिका
-सामाजिक न्याय और हाशिये पर रहने वाले

शैक्षणिक मुद्दे (20 प्रश्न)

-सामाजिक विज्ञान / सामाजिक अध्ययन की -अवधारणा और प्रकृति
-कक्षा प्रक्रियाएं, गतिविधियां और चर्चा
-गहन चिंतन का विकास
-पूछताछ/अनुभवजन्य साक्ष्य
-सामाजिक विज्ञान/सामाजिक अध्ययन पढ़ाने की समस्या
-स्रोत – प्राथमिक और माध्यमिक
-परियोजना कार्य
-मूल्यांकन

सीटेट 2024 पेपर 2 – पूछे जाने वाले प्रश्नों की प्रकृति और स्तर

  • बाल विकास और शिक्षाशास्त्र टेस्ट के प्रश्न 11-14 वर्ष के आयु वर्ग के लिए प्रासंगिक शिक्षण और सीखने के शैक्षिक मनोविज्ञान पर केंद्रित होंगे। वे विविध शिक्षार्थियों की विशेषताओं, जरूरतों और मनोविज्ञान को समझने, शिक्षार्थियों के साथ बातचीत करने और सीखने के लिए एक अच्छे सूत्रधार की विशेषताओं और गुणों पर केंद्रित होंगे।
  • भाषा I में प्रश्न निर्देश देने की भाषा पर दक्षता जाँचने पर केंद्रित होंगे।
  • भाषा II में प्रश्न भाषा, संचार और समझने की क्षमताओं से संबंधित तत्वों पर केंद्रित होंगे।
  • भाषा II भाषा I के अलावा कोई अन्य भाषा होगी। उम्मीदवार उपलब्ध भाषा विकल्पों में से किसी एक भाषा को भाषा I और दूसरी भाषा II के रूप में चुन सकता है।
  • गणित व विज्ञान और सामाजिक अध्ययन/सामाजिक विज्ञान के प्रश्न अवधारणाओं, समस्या समाधान क्षमताओं और शैक्षणिक समझ और विषयों के अनुप्रयोगों पर केंद्रित होंगे। गणित और विज्ञान के पेपर में दोनों विषय से 30-30 प्रश्न पूछे जाएंगे। प्रश्न एनसीईआरटी द्वारा कक्षा VI – VIII तक के लिए निर्धारित विषय के पाठ्यक्रम के विभिन्न खंडों से समान अनुपात में पूछे जाएंगे।
  • पेपर I की परीक्षा में प्रश्न कक्षा VI – VIII के लिए एनसीईआरटी द्वारा तय पाठ्यक्रम पर आधारित होंगे, लेकिन उनका कठिनाई स्तर और संबद्धता सीनियर सेकंडरी स्तर का हो सकता है।

भाषा का चुनाव

परीक्षा प्राधिकरण भाषा I (Language 1) और भाषा II (Language 2) के प्रश्न पत्रों के लिए भाषाओं की सूची प्रदान करता है। उम्मीदवार अपनी सुविधा के अनुसार भाषा का चयन कर सकते हैं। CBSC द्वारा प्रदान की गई भाषा की सूची नीचे देखें।

भाषा विकल्प:

अंग्रेजीहिंदीअसमीबांग्ला
गारोगुजरातीकन्नड़खासी
मलयालममणिपुरीमराठीमिजो
नेपालीओड़ियापंजाबीसंस्कृत
तमिलतेलुगुतिब्बतीउर्दू

CTET Exam Pattern 2024

CTET syllabus के अलावा उम्मीदवारों को CTET 2024 परीक्षा पैटर्न  की भी संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए। CTET 2024 के परीक्षा पैटर्न के अनुसार, CTET 2024 में सभी प्रश्न बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQs) होंगे, जिसमें प्रत्येक उत्तर के लिए चार विकल्प होंगे। CTET 2024 में, प्रत्येक सही उत्तर के लिए एक अंक मिलेंगे, और गलत उत्तरों के लिए कोई अंक नहीं काटा जाएगा। भाषा के पेपर को छोड़कर सभी प्रश्न पत्र CTET 2024 सिलेबस के अनुसार अंग्रेजी और हिंदी में होंगे। परीक्षा ऑफलाइन मोड में और दो पालियों में आयोजित की जाएगी।

CTET Exam Pattern 2024 in Hindi

पेपर I: प्राइमरी चरण: कक्षा I – V के लिए

खंड   प्रश्नों की संख्या   अधिकतम अंक परीक्षा अवधि
बाल विकास और शिक्षाशास्त्र  30 30
भाषा I 30 30
भाषा II  30 302 घंटे 30 मिनट
गणित 30 30
पर्यावरण अध्ययन  30 30

पेपर II: माध्यमिक चरण: कक्षा V-VIII के लिए

खंडप्रश्नों की संख्याअधिकतम अंकपरीक्षा का समय
बाल विकास और शिक्षाशास्त्र 30 30
भाषा I 30 30 2 घंटे 30 मिनट
भाषा II 30 30
गणित और विज्ञान
(गणित और विज्ञान शिक्षक के लिए) या सामाजिक अध्ययन/सामाजिक विज्ञान (सामाजिक अध्ययन/सामाजिक विज्ञान शिक्षक के लिए)
6060

दोनों पेपर में सभी सेक्शन अनिवार्य हैं

Conclusion 

मुझे उम्मीद है, की आपको मेरा यह पोस्ट आपको पसंद आया होगा और आपके मन में जितने भी सवाल रहे होंगे आपको उन सरे सवालो के जवाब भी मिल गया होगा। अगर फिर भी आपके मन में CTET syllabus से संबंधित कोई सवाल हो तो आप मुझसे वो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है। मुझे  आपकी मदद करके काफी खुशी होगी। अगर आप किसी और ट्रोपिक के बारे में जानना चाहते है, तो आप वो भी मुझे कमेंट बॉक्स में बता सकते है। मैं आपको जल्द से जल्द उसके बारे में जानकारी देने की पूरी कोशिश करूँगा। 

Read more….

Bihar deled admission 2024Click
MBA kaise kareClick
B.Tech kaise kareClick
Diploma kaise kareClick
PhD Me Admission Kaise LeClick

Leave a Comment